होम प्रेग्नेंसी टेस्ट (घर पर गर्भावस्था की जांच)

घर पर गर्भावस्था की जांच (प्रेग्नेंसी टेस्ट) करने से आपके पेशाब में गर्भावस्था के हॉर्मोन ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोफिन (एच.सी.जी/hCG) की मौजूदगी का पता चलता है।

निषेचित डिंब जब गर्भाशय में प्रत्यारोपित होता है, तो आपका शरीर एच.सी.जी का उत्पादन शुरु कर देता है। एच.सी.जी. उन कोशिकाओं द्वारा स्त्रावित किया जाता है, जो आगे चलकर आपके शिशु की अपरा (प्लेसेंटा) को बनाती हैं। यह हॉर्मोन निषेचन के करीब छह से 14 दिनों में आपके पेशाब में पाया जा सकता है।

प्रत्यारोपण के बाद शुरुआती कुछ दिनों में एच.सी.जी का स्तर तेजी से बढ़ता है। अधिकांश प्रेग्नेंसी टेस्ट किट इतनी संवेदनशील होती हैं, कि वे माहवारी की निय​त तिथि के पहले दिन ही पेशाब में एच.सी.जी. की मौजूदगी का पता लगा लेती हैं।

अगर, आपकी पहली जांच में परिणाम नेगेटिव आता है, तो इसका मतलब हो सकता है कि एचसीजी का स्तर अभी इतना नहीं बढ़ा है कि इसका पता लगाया जा सके। कई बार माहवारी की नियत तिथि के पहले दिन भी एच.सी.जी. का स्तर इतना अधिक नहीं होता, कि उसकी मौजूदगी का पता चल सके। अगर, आपकी माहवारी में देर हो रही है और गर्भावस्था जांच परिणाम नेगेटिव है, तो कुछ दिन बाद फिर से परीक्षण करें।

आप पाएंगी कि कुछ प्रेग्नेंसी टेस्ट, दूसरों के मुकाबले अधिक संवेदनशील होती हैं। सर्वाधिक संवेदनशील जांच किट, शरीर में थोड़ी मात्रा में एच.सी.जी. होने पर भी बता सकती है कि आप गर्भवती हैं।

जांच किट के डिब्बे या पैकिंग पर दी गई सूचना को पढ़कर आप यह पता लगा सकती हैं कि वह जांच कितनी संवेदनशील है। आप देखेंगी कि एचसीजी की सघनता के बारे में मिली इंटरनेशनल यूनिट्स (mIU) प्रति मिलीमीटर में दिया गया है। 20 एम.आई.यू./एम.एल. की संवेदनशीलता वाला टेस्ट 50 एम.आई.यू./एम.एल की तुलना में अधिक संवेदनशील होगा।

प्रेग्नेंसी टेस्ट कब करना चाहिए?

अधिकांश टेस्ट माहवारी चूकने के पहले दिन ही आपको बता सकते हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं। अधिक संवेदनशील जांचे तो आपकी माहवारी की नियत तिथि से कुछ दिन पहले भी एच.सी.जी. के कम स्तर का पता लगा सकती हैं। हालांकि, हो सकता है कि जांच जल्दी करने से आपको सटीक परिणाम न मिलें (नीचे इस विषय में और अधिक पढ़ें)।

आप जांच कब करें, यह इस बात पर निर्भर करेगा कि आप कौन सी टेस्ट किट इस्तेमाल कर रही हैं। वैसे आप दिन के किसी भी समय जांच कर सकती हैं। जब आप टेस्ट करना चाहें, तो कोशिश करें कि उससे पहले बहुत सारा पानी न पीएं। यह आपके पेशाब में एच.सी.जी. के स्तर को जलमिश्रित (डाइल्यूट) बना सकता है।

कुछ टेस्ट में दिन के पहले पेशाब के इस्तेमाल के लिए कहा जाता है, खासकर कि जब आप समय से पहले जांच कर रही हों तो। रातभर पेशाब में एच.सी.जी. का स्तर और अधिक सघन हो जाता है।

अगर आपकी माहवारी अनियमित रहती है, तो आपके लिए इसकी नियत तिथि की गणना कर पाना मुश्किल हो सकता है। हाल ही के महीनों में जो आपका सबसे लंबा मासिक चक्र रहा हो, उसी अवधि के अनुसार जांच करें।

अगर, आपने हाल में ही गर्भनिरोधक गोलियां लेना बंद किया है, तो हो सकता है आपको अपने प्राकृतिक चक्र का पता न हो। ऐसे में हो सकता है कि आप बहुत ही जल्दी जांच कर लें या फिर इसमें काफी देर कर दें। यदि आपका जांच परिणाम नेगेटिव आता है, तो आपको तीन दिन में दोबारा जांच करनी चाहिए।

घर पर गर्भावस्था जांच किट का इस्तेमाल कैसे करुं?

पहले, दिए गए निर्देशों को ध्यानपूर्वक पढ़ें, क्योंकि हर अलग ब्रांड के निर्देश भी अलग हो सकते हैं।

बहुत से टेस्ट में केवल टेस्ट स्टिक पर पेशाब करना होता है। वहीं, कुछ अन्य में आपको पहले पेशाब को एक छोटे कप में इकट्ठा करना होता है, और फिर टेस्ट स्ट्रिप को उसमें डुबोना होता है। या फिर आपको साथ में ड्रॉपर दिया जा सकता है, ताकि टेस्ट स्टिक पर पेशाब का थोड़ा सा नमूना डाला जा सके।

जांच का परिणाम किस तरह दर्शाया जाता है इसमें भी अंतर हो सकता है। कुछ टेस्ट में गुलाबी या नीली रेखाएं दिखाई देती हैं। कुछ अन्य में प्लस या माइनस के निशान या फिर पेशाब के नमूने के रंग में बदलाव आता है। डिजिटल टेस्ट में “प्रेग्नेंट” या “नॉट प्रेग्नेंट” लिखा हुआ आ जाता है और कुछ में तो यह भी अनुमान दिया होता है कि आपने कितने सप्ताह पहले गर्भाधान किया था।

positive pregnancy test result negative pregnancy test result
यह एक पॉजिटिव परिणाम का उदाहरण है यह एक नेगेटिव परिणाम का उदाहरण है

 

जांच के परिणाम आने में कितना समय लगता है?

जांच किट के साथ आए निर्देशों को देखें, लेकिन आमतौर पर जांच परिणाम तीन से पांच मिनट के अंदर पता चल जाने चाहिए। यह तीन से पांच मिनटों का इंतजार आपके लिए जिंदगी का सबसे लंबा इंतजार जैसा हो सकता है।

अगर, आप बाथरूम में यह जांच कर रही हैं, तो परिणाम के इंतजार के दौरान आप बाहर निकल कर घर के किसी और कमरे में जा सकती हैं और फिर ऐसा कुछ करने की कोशिश करें जिससे आपका ध्यान बंट जाए। एक कहावत है – गैस पर पानी के पतीले को देखते रहने से वह जल्दी नहीं उबल जाता। कुछ ऐसा ही गर्भावस्था जांच परिणाम है। देखते रहने से वह इंतजार और भी लंबा और मुश्किल लगता है।

क्या होम प्रेग्नेंसी टेस्ट सटीक होते हैं?

अगर आप किट के साथ दिए गए निर्देशों का पालन करें, तो घर पर की जाने वाली गर्भावस्था जांच सटीक होती है। बहरहाल, कुछ टेस्ट अधिक संवेदनशील होते हैं और दूसरों की तुलना में उनका इस्तेमाल और परिणाम जानना आसान होता है।

क्या नेगेटिव झूठा परिणाम (फाल्स नेगेटिव) आना संभव है?

घर पर की गई गर्भावस्था जांच का परिणाम नेगेटिव आने के बहुत से कारण होते हैं। हो सकता है आप गर्भवती नहीं हों, या फिर आपके शरीर में एच.सी.जी. का स्तर इतना नहीं बन पा रहा हो, कि इसका पेशाब की जांच में पता चल सके।

अगर, आप यह जांच काफी जल्दी करती है, माहवारी चूकने के पहले दिन से भी पहले, तो आपको नेगेटिव झूठा परिणाम (फाल्स नेगेटिव) मिल सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि आपके शरीर में अभी पर्याप्त हॉर्मोन नहीं बन पाएं हैं।

अगर, जांच परिणाम नेगेटिव हो, मगर आपको फिर भी गर्भवती होने की आशंका हो, तो तीन दिन के बाद फिर से यह जांच करें।

क्या झूठा पॉजिटिव परिणाम (फाल्स पॉजिटिव) आना संभव है?

झूठे पॉजिटिव परिणाम का मतलब है कि जांच परिणाम में आपके गर्भवती होने का पता चला है, मगर वास्तव में आप गर्भवती नहीं हैं। ऐसा होना काफी दुर्लभ है, मगर नामुमकिन नहीं। कुछ दवाइयां जैसे कि प्रजनन क्षमता से जुड़ी दवाइयां, जिनमें एच.सी.जी. होता है, वे जांच के परिणाम को प्रभावित कर सकती हैं। (बिना डॉक्टरी पर्ची के आसानी से मिलने वाली दवाएं, जैसे कि पैरासिटामोल में ऐसा नहीं होना चाहिए।)

कई बार आपके जांच परिणाम में एक हल्की रेखा दिखाई दे सकती है, जिसका मतलब निकालना मुश्किल हो सकता है। यहां जाने कि इस हल्की रेखा का क्या मतलब हो सकता है।

गर्भावस्था जांच किट कहां से खरीदी जा सकती है?

आप बिना डॉक्टर की पर्ची के प्रेग्नेंसी जांच किट अधिकांश दवा की दुकानों से खरीद सकती हैं। आप इन्हें आॅनलाइन भी खरीद सकती हैंं।

होम प्रेग्नेंसी टेस्ट और डॉक्टरों द्वारा किए जाने वाले परीक्षण में क्या अंतर है?

बहुत से डॉक्टर गर्भावस्था की पुष्टि के लिए घर पर की जाने वाली गर्भावस्था जांच की किट का ही इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में यह जांच बिल्कुल समान होती है।

कभी कभार, खून की जांच के लिए कहा जाता है, जिसमें भी एच.सी.जी. की ही जांच की जाती हैं। खून की जांच, पेशाब की जांच से भी अधिक संवेदनशील होती है। यह निषेचित अंडे के प्रत्यारोपण के तुरंत बाद ही आपको गर्भावस्था के बारे में बता सकती है। ऐसा जल्द से जल्द आपके डिंबोत्सर्जन के छह दिन बाद हो सकता है।

एकदम शुरुआती गर्भावस्था में क्या चल रहा है, इसका और बेहतर पता लगाने के लिए आपको खून की जांच करवानी पड़ सकती है। यह रक्त जांच अल्ट्रासाउंड में गर्भावस्था का पता चलने से पहले होती है। यह जांच अस्थानिक (एक्टोपिक) या मोलर गर्भावस्था का पता लगाने में मदद कर सकती है। खून की जांच यह जानने का भी एक अच्छा जरिया है कि एच.सी.जी. का स्तर स्वस्थ गर्भावस्था के लिए अपेक्षित ढंग से बढ़ रहा है या नहीं।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *