भगवान चन्द्रप्रभ और गुरुमाँ सुपार्श्वमती माताजी के जयकारों गूंजा बढ़ के बालाजी जैन मंदिर

हुआ चन्द्रप्रभ भगवान का स्वर्ण कलशो से अभिषेक एवं किया गुरुमाँ सुपार्श्वमती माताजी के समाधी स्थल पर चरण पूजन  ————————————————————————-

Read more

दिशाशूल क्या होता है ? बड़े बुज़ुर्ग तिथि देख कर आने जाने की रोक-टोक क्यों करते थे ?

बड़े बुज़ुर्ग तिथि देख कर आने जाने की रोक-टोक क्यों करते थे ? दिशाशूल समझने से पहले हमें दस दिशाओं

Read more